Gam Shayari in Hindi | Gam Bhari Shayari Hindi | Gam ki Shayari

Gam Shayari in Hindi

Hey guys here you we have publish Gam Shayari with beautiful shayari images there is tremendous Gam Bhari Shayari Hindi photo. You will not find such Gam ki Shayari Image Hd anywhere else.
Read it and you will know This is specially designed for you with Gam Bhari Shayari My dear friends here is the best Gam Shayari in Hindi for you Hope you like this Thand Gam Shayari post.

Gum Shayari

 Gum Shayari

एक कोशिश दिल की सबकुछ बुला देती है
खुली आँखों से भी सपने सजा लेती है,
सपनो को सजाते रहना जरुर क्योकि
हकीकत तो सबको रुला देती है !!

जाना था दूर तो पास बुलाया क्यूँ था,
प्यार न था हमसे तो बहलाया क्यूँ था,
खुश थे हम अपनी गम ऐ ज़िन्दगी में,
चेहरा अपना दिखा कर तड़पाया क्यूँ था !!

Gum Shayari

जरा पाने की चाहत में
बहुत कुछ छुट जाता है,
नदी का साथ देता हूँ तो
समन्दर रूठ जाता है !!

जब तक अपने दिल में उनका गम रहा,
हसरतों का रात दिन मातम रहा,
हिज्र में दिल का ना था साथी कोई,
दर्द उठ-उठ कर शरीके-गम रहा !!

Gum Shayari

मुझको दुंढ लेता है
रोज किसी बहाने से,
दर्द वाकिफ हो गया है
मेरे हर ठिकाने से !!

मोहब्बत हाँथ में पहनी
हुई चूड़ी के जैसी है,
संवारती है, खनकती है,
खनक कर टूट जाती है !!

Gam Shayari in Hindi

Gam Shayari in Hindi

बात न हो तो चलता है मगर,
कोई भूल जाए तो बहुत खलता है !!

किसी से न करेंगे प्यार इस तरह,
न झेलना पड़ेगा जख्म इस तरह !!

Gam Shayari in Hindi

चूम लेता हूँ हर मुश्किल
को मै अपना मानकर,
ज़िन्दगी केसी भी है
आखिर है तो मेरी ही !!

जो नजर से गुजर जाया करते हैं,
वो सितारे अक्सर टूट जाया करते हैं,
कुछ लोग दर्द को बयां नहीं होने देते,
बस चुपचाप बिखर जाया करते हैं !!

Gam Shayari in Hindi

मोहल्ले की मोहब्बत
का भी अजीब फ़साना है,
चार घर की दुरी और
बीच में सारा जमाना है !!

कोई अच्छी सी सज़ा दो मुझको,
चलो ऐसा करो भूला दो मुझको,
तुमसे बिछडु तो मौत आ जाये दिल,
की गहराई से ऐसी दुआ दो मुझको !!

Gam Bhari Shayari Hindi

Gam Bhari Shayari Hindi

मेरा खालीपन बताता है मुझे,
कितनी जगह दे रखी थी उसे !!

अगर मोहब्बत की हद नहीं कोई,
तो दर्द का हिसाब क्यों रखूं मै !!

Gam Bhari Shayari Hindi

थक सा गया है मेरी
चाहतों का वजूद अब,
कोई अच्छा भी लगे तो
इजहार नहीं करता !!

तुमको लेकर मेरा
ख्याल नहीं बदलेगा,
साल बदलेगा मगर दिल
का हाल नहीं बदलेगा !!

Gam Bhari Shayari Hindi

चुपके-चुपके रात दिन
आंसू बहाना याद है,
हमको अब तक आशिकी
का वो जमाना याद है !!

नाराजगी चाहे कितनी
भी क्यों ना हो पर तुझे,
छोड़ देने का ख्याल हम
आज भी नहीं रखते !!

Gam ki Shayari

Gam ki Shayari

नजरों ने ही की थी खता आखिर
दिल को भी था पता आखिर,
बहते अश्को से न हो रुसवा अब
मिलनी तो थी ही सजा आखिर !!

कभी दूरिया तो कभी नजदीकीया थी,
वो हमारे नही किसी और के करीब थी,
यकीन जिस पर खुद से ज्यादा था,
वही मेरी मोहब्बत मैं बेवफा थी !!

Gam ki Shayari

मुझे कहती है तेरे साथ रहूंगी सदा ग़ालिब,
बोहत प्यार करती है मुझसे उदासी मेरी !!

ज़िद मत किया करो मेरी दास्तान सुनने की,
मैं हँसकर कहूँगा तो भी तुम रोने लगोगे !!

Gam ki Shayari

हमें अहमियत तक नहीं दी गई,
और हम जान तक दे रहे थे !!

सूख गई है तेरे इश्क़ के वो डाली,
अब उसे मरहम से मत सींच !!

हो चुके अब तुम किसी के,
कभी मेरी ज़िंदगी थे तुम,
भूलता है कौन मोहब्बत पहली,
मेरी तो सारी ख़ुशी थे तुम !!

देख कर मेरा नसीब मेरी तक़दीर रोने लगी,
लहू के अल्फाज़ देख कर तहरीर रोने लगी,
हिज्र में दीवाने की हालत कुछ ऐसी हुई,
सूरत को देख कर खुद तस्वीर रोने लगी !!

मुझे यकीन है मोहब्बत उसी को कहते हैं,
कि जख्म ताज़ा रहे और निशान चला जाये !!

अजीब सी थी वो मुझे बदल कर खुद बदल गई !!

हमे उम्मीद है की हमारी यह Gam Shayari in Hindi की Post आपको पसंद आई होगी, यदि यह Gam Bhari Shayar की Post आपको पसंद आई हो तो इसे अपने Friends के साथ इसे सोशल मीडिया पर share जरुर करे और हमे Comment में बताये की आपको हमारे द्वारा लाई गई ये पोस्ट कैसी लगी !
हम इससे पहले भी Shayari, Status के बहुत से Post लेकर आये थे आप निचे दी गई लिंक पर क्लिक करके उनको भी पड़ सकते है धन्यवाद ! Gam Shayari

Read Also :-