51+ Gulzar Shayari in Hindi || Shayari by Gulzar || गुलज़ार शायरी 2021

gulzar shayri

Here the best collection of Gulzar Shayari in Hindi, Show your feeling & emotion with these Gulzar Shayari, Shayari Gulzar, Gulzar ki Shayari, Gulzar Shayri,  along with Gulzar Shayari on Life, Gulzar Shayari Hindi, Shayari by Gulzar, Gulzar Shayari on Love, Gulzar Sahab Shayari DP.

Gulzar Shayari in Hindi

gulzar shayari in hindi

👉 👈क्या लूटेगा जमाना हमारी खुशियों🌹 को, हम तो खुद ही खुशियां दूसरों पर लुटा कर जीते हैं 👈
👉 Kya lutega jaman hmari khushiyo🌹 ko, ham to khud hi khushiya dusro se lut kr jite hai 👈

Gulzar Shayari in Hindi

gulzar shayari in hindi

👉 दोस्ती और मोहब्बत में फर्क सिर्फ इतना है, बरसों बाद मिलने पर मोहब्बत🌹 नजर चुरा लेती और दोस्ती सीने से लगा लेती है 👈
👉 Dosti or mohabbat me fark sirf itna hai, brso bad milne pr mohabbat🌹 najar chura leti or dosti sine se lga leti hai 👈

Gulzar Shayari in Hindi

gulzar shayari in hindi

👉 मिल जाएगा कोई हमें टूट कर चाहने वाला🌹, अब पूरा शहर तो बेवफा नहीं हो सकता 👈
👉 Mil jayga koi hme tut kr chahne vala🌹, ab pura shar to bevfa nhi ho skta 👈

Gulzar Shayari in Hindi

gulzar shayari in hindi

👉 सालों बाद मिले हो गले🌹 लगाकर रोने लगे, जाते वक्त जिसने कहा था तुम्हारे जैसे हजार मिलेंगे 👈
👉 Salo bad mile ho gle🌹 lgakr rone lge, jate vakt jisne kha tha tumhare jese hjar milenge 👈

Gulzar Shayari in Hindi

gulzar shayari in hindi

👉 मेरी फितरत में नहीं था🌹 तमाशा करना बहुत कुछ जानते थे तब भी खामोश है हम 👈
👉 Meri fitrat me nhi tha🌹 tmasha krna bhut kuch jante the tb bhi khamosh hai ham 👈

Gulzar Shayari Hindi
gulzar shayari hindi

👉 मिजाज में थोड़ी🌹 सख्ती लाजमी है साहब लोग पी जाते अगर समंदर खारा ना होता 👈
👉 Mizaz me thodi🌹 skhti lajmi hai sahab log pi jate agr samundar khara na hota 👈

Gulzar Shayari Hindi

gulzar shayari hindi

👉 कैसे दूर करूं🌹 यह उदासी बता दे कोई लगा कर सीने से रुला दे कोई 👈
👉 Kese dur kru🌹 yh udasi bta de koi, lga kr sine se rula de koi 👈

Gulzar Shayari Hindi

gulzar shayari hindi

👉 एक जैसी दिखती थी🌹 माचिस की तिलियाँ कुछ ने “दिये” जलाए और कुछ ने “घर” 👈
👉 ik jesi dikhti thi🌹 machis ki tiliya kuch ne “diye” jlaye or kuch ne “ghar” 👈

Gulzar Shayari Hindi

gulzar shayari hindi

👉 मैं भिखारी भी बन जाऊं🌹 तेरे खातिर कोई डाले तो सही तुझे मेरी झोली मे 👈
👉 Mai bhikhari bhi bn jau🌹 tere khatir koi dale to tuje meri jholi me 👈

Gulzar Shayari

gulzar shayari

👉 बड़ी ही प्यारी🌹 सी है वो गुस्सा भी करती है और बेहिसाब इश्क भी 👈
👉 Bdi hi pyari🌹 si hai vo gussa bhi krti hai or behisab ishk bhi 👈

Gulzar Shayari

gulzar shayari

👉 खुदा से मौत मांग लेना पर इंसान से मोहब्बत🌹 नहीं 👈
👉 Khuda se mout mang lena pr insan se mohabbat🌹 nhi 👈

Gulzar Shayari

gulzar shayari

👉 तुम आईना क्यों देखती हो बेरोजगार करोगी क्या मेरी🌹 आंखों को 👈
👉 Tum aaina kyo dekhti ho berojgar krohi kya meri🌹 aakho ko 👈

Gulzar Shayari

gulzar shayari

👉 रिश्ते वही लाजवाब होते हैं जो अहसानो🌹 से नहीं बनते बल्कि एहसासों से बनते हैं 👈
👉 Rishte vhi lajvab hone hai jo ahsano🌹 se nhi bnte ihsaso se bnte hai 👈

Gulzar Shayari

gulzar shayari

👉 कैसा अजीब खेल है मोहब्बत🌹 का जनाब, एक थक जाए तो दोनों हार जाते हैं 👈
👉 Kesa ajib khel hai mohabbat🌹 ka jnab, ik thk jaye to dono jar jate hai 👈

Gulzar ki Shayari

gulzar ki shayari

👉 हालात सिखा देते हैं बातें सुनना और सहना वरना, हर शख्स🌹 अपने आप में बादशाह होता है 👈
👉 halat sikha dete hai bate sunna or shna vrna, hr shks🌹 apne aap me badshah hota hai 👈

Gulzar ki Shayari

gulzar ki shayari

👉 तस्वीरे लेना भी जरूरी है जिंदगी🌹 में साहब आईने गुजरा हुआ वक्त नहीं बताया करते 👈
👉 tasvire lena bhi jaruri hai zindagi🌹 me sahb aaine gujra hua vakt nhi btaya krte 👈

Gulzar ki Shayari

gulzar ki shayari

👉 उठती नहीं निगाहे किसी🌹 और की तरफ, एक शख्स का दीदार हमें इतना पाबंद कर गया 👈
👉 uthati nhi nigahe kisi🌹 or ki taraf, ik shaksh ka didar hme itna paband kr gya 👈

Gulzar ki Shayari

gulzar ki shayari

👉 नींद तो बचपन🌹 में आती थी, अब तो थक कर सो जाते हैं 👈
👉 Nind to bachpan🌹 me aati thi, ab to thak kr so jate hai 👈

Gulzar Sahab Shayari

gulzar ki shayari

👉 बिना मांगे ही मिल जाती है मोहब्बत🌹 किसी को कोई हजारों दुआओं के बाद भी खाली रह जाता है 👈
👉 Bina mange hi mil jati hai mohbbat🌹 kisi ko koi hajar duvao ke bad bhi khali rh jata hai 👈

Gulzar Sahab Shayari

gulzar sahab shayari

👉 जब गिला शिकवा अपनों🌹 से हो तो खामोशी ही भली, अब हर बात पर जंग हो यह जरूरी तो नहीं 👈
👉 Jb gila shikva apno🌹 se ho to khamoshi hi bhli, ab hr bar pr jang ho yh jruri to nhi 👈

Gulzar Sahab Shayari

gulzar sahab shayari

👉 हम ने अक्स🌹र तुम्हारी राहों में रुक कर अपना ही इंतज़ार किया 👈
👉 Ham ne aksar🌹 tumsaru raho me ruk kr apna hi intzar kiya 👈

Gulzar Sahab Shayari

gulzar sahab shayari

👉 जब गिला शिकवा अपनों🌹 से हो तो खामोशी ही भली, अब हर बात पर जंग हो यह जरूरी तो नहीं 👈
👉 Jb gila shikva apno🌹 se ho to khamoshi hi bhli, ab hr bar pr jang ho yh jruri to nhi 👈

Gulzar Shayri

gulzar shayri

👉  मैं खुशी तलाश कर रहा था और तुम🌹 मिल गए 👈
👉 Mai khushi tlash kr rha tha or tum🌹 mil gye 👈

Gulzar Shayri

gulzar shayri

👉 इश्क जालिम🌹 है साहब मरने से पहले ही मार देता है 👈
👉 ishk jalim🌹 hai sahb mrne se phle hi mar deta hai 👈

Gulzar Shayri

gulzar shayri

👉 इश्क से उम्र🌹 का क्या वास्ता जनाब पुरानी शराब अक्सर महंगी होती है 👈
👉 ishk se umar🌹 ka kya vasta jnab purani shrab aksar mahngi hoti hai 👈

Gulzar Shayri

gulzar shayri

👉 वही मुझको🌹 अकेला कर गया जो कभी दुआ में मुझे मांगता था 👈
👉 Vhi mujhko🌹 akela kr gya jo kbhi dua me muje mangta tha 👈

Gulzar Shayri

gulzar shayri

👉 कैसा अजीब खेल है मोहब्बत🌹 का जनाब, एक थक जाए तो दोनों हार जाते हैं 👈
👉 Kesa ajib khel hai mohabbat🌹 ka jnab, ik thk jaye to dono jar jate hai 👈

Shayari Gulzar

shayari gulzar

👉 एक सुकून सा मिलता है तुझे सोचने से भी, फिर कैसे कह दूं तेरा इश्क बेवजह सा है 👈
👉 ik sakun sa milta hai tuje sochne se bhi, fir kese kh du tera ishk bevjah hai 👈

Shayari Gulzar

shayari gulzar

👉 मिलावट है तेरे इश्क में इत्र व शराब की कभी हम महक जाते हैं, कभी बहक जाते हैं 👈
👉 Milavat hai tere ishk me itr v shrab ki kbhi mahak jate hai, kbhi bhak jate hai 👈

Shayari Gulzar

shayari gulzar

👉 पता नहीं कितना प्यार हो गया है तुमसे, नाराज होने पर भी तुम्हारी याद आती हैं 👈
👉 Pta nhi kitna pyar ho gya hai tumse, naraj hone pr bhi tumhari yad aati hai 👈

Shayari Gulzar

shayari gulzar

👉 अकेला रहने का भी अपना ही सुकून है, ना किसी के आने की खुशी ना किसी के जाने का गम 👈
👉 Akela rhne ka bhi apna hi sukun hai, na kisi ke aane ki khushi na kisi ke jane ka gam 👈

Gulzar Shayari on life

gulzar shayari on life

👉 काश फुर्सत में उन्हें भी यह ख्याल आ जाये, कि कोई याद करता है उन्हें जिंदगी समझ कर 👈
👉 Kash fursat me unhe bhi khyal aa jaye, ki koi yad krta hai unhe zindagi smj kr 👈

Gulzar Shayari on life

gulzar shayari on life

👉 गुलाब तो नहीं दिया हमने लेकिन मोहब्बत गुलाब देने वालों से ज्यादा की थी 👈
👉 Gulab to nhi diya hmne lekin mohabbat gulab dene valo se jyada ki thi 👈

Gulzar Shayari on life

gulzar shayari on life

👉 दूरियाँ जब बढ़ने लगी तो गलतफहमी भी बढ़ने लगी, फिर उसने वही सुना है जो मैंने नहीं कहा 👈
👉 Duriya jab bdne lgi to gltfhmi bhi bdne lgi, fir usne bhi suna hai jo mene nhi kha 👈

Gulzar Shayari on life

gulzar shayari on life

👉 पल भर की बातें फिर महिनो की दूरियां, आदत तुम्हारी भी तनख्वाह सी हो गई 👈
👉 Pl bhar ki bate fir mhino ki deriya, aadt tumhari bhi tnkhva si ho gai 👈

Gulzar Shayari on love

gulzar shayari on love

👉 आज फ़िर देखा किसी ने हमें मोहब्बत भरी निगाहों से, आज फिर हमने तुम्हारे खातिर अपनी निगाहे झुका ली 👈
👉 Aaj fir dekha kisi ne hme mohabbat bhri nigaho se, aaj fir hmne umhare khatir nigahe jhuka li 👈

Gulzar Shayari on love

gulzar shayari on love

👉 धागे बड़े कमजोर चून लेते हैं हम और फिर सारी उम्र गाँठ बाँधने मे निकल जाते हैं 👈
👉 Dhage bde kamjor chun lete hai ham or fir sari umar gath bandne me nikal jate hai 👈

Gulzar Shayari on love

gulzar shayari on love

👉 पुरानी होकर भी खास होती है मोहब्बत बेशर्म है जनाब बेहिसाब होती है 👈
👉 purani hokr bhi khas hoti hai mohabbat bishrm hai jnab dehisab hoti hai 👈

Gulzar Shayari on love

gulzar shayari on love

👉 चूम लेता हूं हर मुश्किल को मैं अपना मान कर जिंदगी कैसी भी है आखिर है तो मेरी 👈
👉 chum leta hu hr mushkil ko mai apna man kr zindagi kesi bhi hai aakhir hai to meri 👈

Shayari by gulzar

shayari by gulzar

👉 कीचड़ उसके पास था और मेरे पास था गुलाब, जो भी जिसके पास था उसने दिया उछाल 👈
👉 Kichad uske pass tha or mere pass tha gulab, jo jiske pass tha usne diya uchal 👈

Shayari by gulzar

shayari by gulzar

👉 तेरे बगैर किसी और को देखा नहीं मैंने, सुख गया वह तेरा गुलाम मगर फेंका नहीं मैंने 👈
👉 Tere bger kisi or ko dekha nhi mene, sukh gya vh gulab mgr feka nhi mene 👈

Shayari by gulzar

shayari by gulzar

👉 बातें तो सिर्फ जज़्बातों की है, वरना मोहब्बत तो सात फेरो के बाद भी नहीं होती 👈
👉 Bate to sirf jazbato ki hai, vrna mohabbat to sath fero ke bad bhi nhi hoti 👈

Shayari by gulzar

shayari by gulzar

👉 बिछड़ते वक़्त मेरे सारे एब गिनाये उसने, सोचता हूं जब मिला था तब कौन सा हुनर था मुझमें 👈
👉 Bichadte vakt mere sare ib ginaye usne, sochta hu mita tha tb kon sa hunar tha mujme 👈

हमे उम्मीद है की हमारी यह Gulzar Shayari in Hindi की Post आपको पसंद आई होगी, यदि यह Post आपको पसंद आई हो तो इसे अपने Friend, Family के साथ इसे सोशल मीडिया पर share जरुर करे !

और हमे Comment में बताये की आपको हमारे द्वारा लाई गई ये पोस्ट कैसी लगी | हम इससे पहले भी Shayari, Status के बहुत से Post लेकर आये थे आप निचे दी गई लिंक पर क्लिक करके उनको भी पड़ सकते है धन्यवाद !