Gum Shayari, Gam Shayari in Hindi, Gam Ki Shayari 2022

Gam Ki Shayari

Hey friends we have Share the Gum Shayari & Gam Shayari in Hindi,‎ Show your emotion with these Gam Bhari Shayari Hindi, Gam Ki Shayari images For DP.

Gum Shayari

Gum Shayari

तेरे इश्क ने यादों का तलबगार बना दिया,
बेगुनाह रहे दर्द को गुनहगार बना दिया !!

जिंदगी रही तो याद सिर्फ तुम्हें ही करते रहेंगे,
भूल गए तो समझ जाना अब हम जिंदा नहीं रहे !!

Gum Shayari

खुशी दे या गम दे मगर देते रहा कर तू,
उम्मीद है मेरी तेरी हर चीज़ अच्छी लगती है !!

जब दर्द सहने की आदत हो जाती है ना,
तो आंसू आना खुद ही बंद हो जाते है !!

Gum Shayari

ये दुनिया गमों का मेला है,
हमने भी हर गम झेला है,
करे हम उनसे क्या सिकवा,
यहां पर हर कोई अकेला है !!

अगर वो पूछ लें हमसे,
तुम्हें किस बात का गम है,
तो फिर किस बात का गम है,
अगर वो पूछ ले हमसे !!

Gam Shayari in Hindi

Gam Shayari in Hindi

उम्र की राह में रास्ते बदल जाते हैं,
वक़्त की आंधी में इंसान बदल जाते हैं,
सोचते हैं तुम्हें इतना याद ना करें लेकिन,
आँख बंद करते ही इरादे बदल जाते हैं !!

हम रूठे दिलों को मनाने में रह गए,
गैरों को अपना दर्द सुनाने में रह गए,
मंज़िल हमारी हमारे करीब से गुज़र गयी,
हम दूसरों को रास्ता दिखाने में रह गए !!

Gam Shayari in Hindi

आँखों में उमड़ आता है बादल बन कर,
दर्द एहसास को बंजर नहीं रहने देता !!

सादगी इतनी भी नहीं है अब बाकी मुझमें,
कि तू वक़्त गुज़ारे और मैं मोहब्बत समझूं !!

Gam Shayari in Hindi

जब भी रूठ जाते हो
सब कुछ अधुरा सा लगता हैं,
मत रूठा करो जान एक
क्षण सदियों सा लगता है !!

सिर्फ आसू ही गवाही
दे सकते हे मेरी कि,
दिल कितनी शिद्द्त से
याद करता हे तुझे !!

Gam Bhari Shayari Hindi

Gam Bhari Shayari Hindi

बहुत से गम सह चुके हैं
पर पैमाना दर्द का भरा नहीं,
अभी बहुत से दिन देखने हैं बाकी
तेरे दर्द से दिल हमारा भरा नहीं !!

गम ना करना मेरी मौत का
अब गैर ही मेरा जनाजा उठाएंगे,
अपनों को खुन्नस है मेरे नाम से
वो मेरे जनाजे पे भी मुस्कुराएंगे !!

Gam Bhari Shayari Hindi

दुनिया भी मिली गम-ए-दुनिया भी मिली है,
वो क्यूँ नहीं मिलता जिसे माँगा था खुदा से !!

वो फिज़ाओं में ज़हर घोलता हैं,
घर के राज़ सारे बाहर खोलता हैं !!

Gam Bhari Shayari Hindi

गीत खुशी के लबों पर सजते नहीं,
तेरी यादों के दीप कभी बुझते नहीं,
रातों को हँसाती हैं, हंसतों को रुलाती,
ज़िंदगी तेरे फलसफे हम समझते नहीं !!

मंज़िलों के ग़म में रोने से मंज़िलें नहीं मिलती,
हौंसले भी टूट जाते हैं अक्सर उदास रहने से !!

Gam Ki Shayari

Gam Ki Shayari

ज़िन्दगी लोग जिसे मरहम-ए-ग़म जानते हैं,
जिस तरह हम ने गुज़ारी है वो हम जानते हैं !!

मंज़िलें हमारे क़रीब से गुज़रती रही और
हम औरों को रास्ता दिखाने में रह गए !!

Gam Ki Shayari

बेहाल कर के हाल पूछती हो लाजवाब,
हो तुम भी जो ये सवाल पूछती हो !!

लूट लेते है अपने ही वरना गैरो को क्या,
पता इस दिल की दीवार कमज़ोर कहाँ है !!

Gam Ki Shayari

मुझे गम नहीं तेरी बेवफाई से,
बस खुद से नाराज़ हूँ मैं आजकल !!

अकेले थे हम अकेले ही रह जाते है,
मरहम लगाने वाले ही जख्म दे जाते है !!

हमे उम्मीद है की हमारी यह Gum Shayari in Hindi की पोस्ट आपको अवश्य ही पसंद आई होगी, यदि यह पोस्ट आपको पसंद आई हो तो इसे अपने मित्रो के साथ इसे सोशल मीडिया पर share जरुर करे और हमे कमेंट में बताये की आपको हमारे द्वारा लाई गई ये Post कैसी लगी !

हम इससे पहले भी Shayari, Status के बहुत से पोस्ट लेकर आये थे आप निचे दी गई लिंक पर Click करके उनको भी पड़ सकते है धन्यवाद !

Read Also :-